Go corona go Corona extermination initiative

Go corona go: हर जंग के लिए तैयार गरियाबंद जिले के ये ग्रामवासी..

गांव-गांव दिख रही कोरोना वायरस भगाने की संजीदगी, बताते हैं उन गांवों की कहानी जो बना मिसाल

रवि तिवारी / गरियाबंद. शहर में तो प्रशासनिक सख्ती के जरिए कोरोना वायरस के खिलाफ जंग का आगाज कर दिया गया है लेकिन गांवों का क्या…? जाहिर है जागरूक ग्रामीण अपने गांव में कोरोना को दाखिल न होने देने के लिए हर कोशिश करने पर अमादा है। हम आप को गरियाबंद जिले के एक ऐसे की गांवों की दास्तां सुना रहे हैं जिन्होने कोरोना के खिलाफ अपनी जंग की मुहिम को दूसरे गांवों के लिए भी मिसाल बना दिया।

जिले में अब ग्रामीण अंचलों में गॉव से होकर प्रवेश करने वाले पूरे रास्तों को ग्रामीणों द्वारा सील किया जा रहा है, इसी क्रम में झरगॉव के ग्रामीण रामानुज नेताम बताते है कि 21 दिनों तक हमे अपने घर से बाहर नही जाना है। पूरे गॉव के लोग घरों में ही रहकर लॉक डाउन का पूर्ण समर्थन कर रहे है।

रामानुज ने बताया कि गॉव में आने वाले सभी रास्तो को सील कर दिया गया है। ना ही कोई गॉव में आ रहा है और ना ही कोई गॉव से बाहर जा रहा है। गॉव के सभी लोग शासन के नियमों का पालन कर रहे है। इसी क्रम में गोहरापदर के ग्रामीणों ने भी गॉव में प्रवेश करने वाले रास्तों को सील कर दिया है।

गॉव के गुरुनारायन तिवारी ने बताया की अपनी सुरक्षा के लिए घर मे रहे। सरकार के नियम कायदों का पालन कर अपनी सुरक्षा के साथ साथ अपने घर वालों को भी सुरक्षित करे। इसी क्रम में तेतलखुटि के ग्रामीणों ने भी अपने गॉव को सुरक्षित रखने के लिए ओड़िसा से आने वाले पूरे रास्ते के साथ ही अन्य रास्तों को बन्द कर दिया है। जहाँ से लोगों की आवाजाही हमेशा बनी रहती है।

वही मामले को लेकर अमलिपदर ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष तपेस्वर ठाकुर का कहना है कि अपनी सुरक्षा अपने हाथ में ऐसे में उन्होंने ग्रामीणों के साथ ही आमजनों से अपील की है कि कोरोना को हराने के लिए ग्रामीण सरकार के दिशा निर्देशों का पालन करे। यहां बताना लाज़मी होगा कि देवभोग ब्लॉक के ग्रामीण भी लॉक डाउन को सफल बनाते हुए सासन प्रशासन का पूर्ण समर्थन कर रहे है। वही ग्रामीणों ने ठान लिया है कि कोरोना को हर हाल में हराना ही है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*